Sunday, January 1, 2012

नारी

नव सोच ,नव संघर्ष  को
नव क्रांति ,नव संकल्प को ,
दृष्टि में हर कल्प को ,
नारी तूने है बनाया....... 

3 comments:

धूल में उड़ते कण

हवा के थपेड़ों से गिरता रहा इधर-उधर   मकसद क्या था,कहाँ था जाना कुछ खबर न थी बस बहता रहा इस नदी से उस नदी तक इस डगर से उस डगर जि...