Sunday, January 1, 2012

नारी

नव सोच ,नव संघर्ष  को
नव क्रांति ,नव संकल्प को ,
दृष्टि में हर कल्प को ,
नारी तूने है बनाया....... 

3 comments:

धूल में उड़ते कण

धूल में उड़ते कण -सुशांत