Sunday, March 11, 2012

तो क्या रहा ...



कोई अपना-पराया न रहा ,
क्या खुशी के दो पल भी हमें गवारा न रहा ?

कोई तो आएगा इन सूनी गलियों में,
बहुत दिए दिलासे मैंने इस दिल को ,
 पर क्यों ,
 किसी का आना- जाना न रहा ?

चल पड़ा हूँ ऐसी मंजिल को ,
जिसके  न रास्ते रहे ,न ठौर-ठिकाना रहा ,


जिंदगी पूछती है ये सवाल अक्सर ,
क्या नई दुनिया में अब कोई पुराना न रहा ?

गर खो जाऊँ इस सूनी भीड़ में तो कह देना,
अच्छा हुवा ,
न सुशान्त रहा ,न उसका पैमाना रहा ..




5 comments:

  1. vaah,,,very well written,,,bt khud ko all time itna demoralize mat kiya karo.....

    ReplyDelete
  2. सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद पल्लवी जी और ऋतू जी

    ReplyDelete
  4. जिंदगी पूछती है ये सवाल अक्सर ,
    क्या नई दुनिया में अब कोई पुराना न रहा ?

    behatareen panktiyaan hain!

    ReplyDelete
  5. कोई तो आएगा इन सूनी गलियों में,

    यकीनन .. कोई तो आएगा ही आज नहीं तो कल
    अच्छी रचना

    ReplyDelete

कलम मरती है तो बहुत कुछ मर जाता है

बांध दिए जाने और ख़त्म हो जाने की बीच से जाने वाली संकरी गलियों में वो जूझता रहा शब्दों के तहखाने से बहुत दूर निकल चुका वापसी में अपन...