Monday, April 2, 2012

शुरुवात

आज ,
आज का दिन बहुत खास है ,
तो क्यों न ,
एक शुरुवात करो ,
नए आयाम नए लक्ष्य बनाकर ,
ठान लो आज अपने मन में ,
बदलाव की आंधी उठाने की  ,
कुछ पाने की कुछ कर दिखने की ,
एक नया संसार बनाने की ,

ये वक्त ,
ये वक्त ठहरने का नहीं है ,
ये वक्त है आगे बढ़ने का ,
तो आज , 
आज शुरुवात करो ,
तारों सा जगमगाने की ,
हवाओ सा गुनगुनाने की ,
चिड़ियों सा चहचहाने की ,

आज ,
आज शुरुवात करो ,
बादलों सा गरजने की ,
चट्टानों सा अकड़ने की ,
तुफ़ा सा मचलने की ,

आज ,
आज शुरुवात करो ,
जिंदगी को जीने की ,
अपनी खुशियाँ सजोने की ,
अपनी कमियों को खोने की ,
एक नए रूप में पहचान की ,
आज तुम शुरुवात करो .

आज की ये शुरुवात ही  ,
आपके काम आएगी ,
 आप की ये जिंदगी और भी ज्यादा संवर जायेगी .... 

5 comments:

  1. very inspiring,,,,,,,,,,,,,,,,,,,lvly poetry,,,,

    ReplyDelete
  2. आज ,
    आज शुरुवात करो ,
    जिंदगी को जीने की ,
    सुविचार युक्त सुन्दर रचना ...
    'आगाज़' है तो 'अंजाम' भी होगा.

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया!

    ReplyDelete
  4. बिलकुल सही लिखा आपने सुशांत भाई... बहुत बढ़िया!!!

    ReplyDelete
  5. मैंने कमेन्ट किया था कहाँ चला गया

    ReplyDelete

कलम मरती है तो बहुत कुछ मर जाता है

बांध दिए जाने और ख़त्म हो जाने की बीच से जाने वाली संकरी गलियों में वो जूझता रहा शब्दों के तहखाने से बहुत दूर निकल चुका वापसी में अपन...