Wednesday, June 20, 2012

अंधकार


अंधकार बढ़ता ही जाता है ,
अब तो ये अँधेरा भी खुद में ही घुटा जाता है ,

बहुत  से अंतर्द्वंद जब आपके ह्रदय में ,
दे गवाही आपके गुनाह की ,
तब अवसाद बढ़ता ही जाता है ,
और आपके अंदर का इंसान बहुत छटपटाता है
न सोता न जागता है ,
न रोता न हँसता है,
न कुछ कहता न ही सुनता है,
बेबात की  उलझनों में उलझा सा रहता है,
अंधेरो में रौशनी को खोजता,
अपनी घुटन को टटोलता ,
अंधेरो की गहराई में उतर कर,
न जाने क्या क्या है सोचता,

पर,
जल्द ही इस अँधेरे को घुटने से बचाना होगा ,
 ये  अंधकार मिटाना होगा ,
अंधेरो में दीप जलना होगा,
कोइ सूरज चमकाना होगा ,


कुछ भी करना पड़े ,
बस इस उम्मीद को बचाना होगा,
हमे अंधेरों को मिटाना ही होगा  ...

10 comments:

  1. प्रस्तुति चर्चा मंच पर, मचा रही हडकम्प ।

    मित्र नहीं देरी करो, मार पहुँचिये जम्प ||

    --

    शुक्रवारीय चर्चा मंच

    ReplyDelete
  2. सुंदर भाव।
    जुगनुओं की कोशिशें रंग लायेंगी।

    ReplyDelete
  3. कुछ भी करना पड़े ,
    बस इस उम्मीद को बचाना होगा

    बहुत सुन्दर भाव
    उम्मीद कायम रहे.. तथास्तु

    ReplyDelete
  4. andhera ghutan se bache na bache aap andhere kee ghutan se bachne ka pryaas karein..aap B Tech ke student hain..bhaivisya ujjwal hai..chand per aakar badal agah karta hai kee chand bhee ko sakta hai...isliye chand kee roshni me kar lo kaam jitna bhee ho sakta hai..chand jab chupe to insaan fursat se so sakta hai..aaur phir chand ke aate poori urja ke sath kho sakta hai..ujjwal bhabisya kee dher sari shubhkamnaon ke sath

    ReplyDelete
  5. u purvaai.blogspot.com
    mmeed ka daman tham kar bas aise hi likhte rahiye.shubh-kamnayen

    plz vsit my blg. -

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (26-08-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  7. सुंदर रचना !

    दीप ऎसा जले कि
    मिटे अपना अंधेरा भी
    कोशिश रहे साथ में
    किसी और को भी
    कुछ रोशनी मिले !

    ReplyDelete

कलम मरती है तो बहुत कुछ मर जाता है

बांध दिए जाने और ख़त्म हो जाने की बीच से जाने वाली संकरी गलियों में वो जूझता रहा शब्दों के तहखाने से बहुत दूर निकल चुका वापसी में अपन...