Thursday, September 6, 2012

मैं मौन हूँ


मैं जाति ,वर्ग ,वर्ण ,सम्प्रदाय में बांटा गया हूँ,
मैं देश-परदेस ,प्रान्त-राज्य,स्त्री-पुरुष तक में बांटा गया हूँ,
मेरे हजारों टुकड़े किए गए हैं,
पर फिर भी मैं मौन हूँ,
मैं मौन हूँ
इंसानियत की बर्बरता पर,
अन्धविश्वास की ऊँचाइयों पर ,
भेद-भाव से भरे सामाजिक गलियारों पर ,
मानव के छीड आत्मविश्वास पर ,
भिखारी के दर्द पर ,
गरीबों की भूख पर,
बच्चों की सिसकियों पर ,
अमीरों के तेवर पर ,
स्त्रियों के शोषण पर ,
मजदूरों के तंग हालतों पर ,
पैसे की सत्ता पर ,
लालच से भरे इंसानों की इक्छा पर ,
मैं मौन हूँ
ठीक उसी तरह जिस प्रकार ये प्रकृति मौन है,
ये पानी ,ये हवा ,ये पेड़-पौधे ,ये सूरज,ये धरती ,ये आकाश सब कुछ तो मौन हैं,
पर मेरे मौन का अर्थ गूंगापन नहीं,
ये भाव है सहनशीलता का ,
जब कभी ये मौन टूटेगा,
दुनिया के सारे विचार तहस नहस हो जायेंगे,
एक नई सभ्यता की इबारत लिखी जायेगी,
शायद तब इंसान को इंसान होने की अहमियत समझ आएगी | 

3 comments:

  1. बहुत अच्छे

    ReplyDelete
  2. good..........
    jis tarah prakriti bahut samay tak maun nahi rahti ,usi tarah hum sabko b ye maun todna hi hoga....

    ReplyDelete

कलम मरती है तो बहुत कुछ मर जाता है

बांध दिए जाने और ख़त्म हो जाने की बीच से जाने वाली संकरी गलियों में वो जूझता रहा शब्दों के तहखाने से बहुत दूर निकल चुका वापसी में अपन...