Monday, January 27, 2014


हर ओर गहन निराशा है                                 
उम्मीद का आँचल लहराओ
जग झूम उठे नाचे गाये
कोई गीत अब ऐसा गुनगुनाओ |

No comments:

Post a Comment

कलम मरती है तो बहुत कुछ मर जाता है

बांध दिए जाने और ख़त्म हो जाने की बीच से जाने वाली संकरी गलियों में वो जूझता रहा शब्दों के तहखाने से बहुत दूर निकल चुका वापसी में अपन...