Wednesday, June 13, 2018


हे बापू
हम आये है यहाँ फिर एक बार तुम्हे वापस वतन ले जाने को
निकलो अब इस मूरत से और चलो हमारे साथ
आज हिसां की आग में लिपटा मेरा वतन  
तुम्हारी अहिंसा को भूल बैठा है
कॉर्पोरेट में जीता वतन
तुम्हारे ग्राम स्वराज को भूल बैठा हैं

आओ अब लौट चलें
हिंसा पर अहिंसा का और असत्य पर सत्य का परचम लहराएँ
कमजोरों की ताकत बने , असंगठित को संगठित बनायें
चलो बापू तुम्हारे सपनों को पूरा करें

No comments:

Post a Comment

हे बापू हम आये है यहाँ फिर एक बार तुम्हे वापस वतन ले जाने को निकलो अब इस मूरत से और चलो हमारे साथ आज हिसां की आग में लिपटा मेरा व...