Wednesday, June 13, 2018

इस मौसम की धुंध में मैं तुम्हे साफ़ देख पा रहा हूँ 
पहले से भी ज्यादा साफ़ 
और ये हवाएं जो तुम्हारे आंगन से दौड़ती चली आ रही है 
मेरे कानों में जो कह रही हैं
उसमें मैं तुम्हे महसूस कर सकता हूँ
अब तुम आओ या न आओ
मै यहीं ठहरे तुम्हारा इंतज़ार करूँगा ...ताउम्र



No comments:

Post a Comment

धूल में उड़ते कण

हवा के थपेड़ों से गिरता रहा इधर-उधर   मकसद क्या था,कहाँ था जाना कुछ खबर न थी बस बहता रहा इस नदी से उस नदी तक इस डगर से उस डगर जि...