Wednesday, March 7, 2012

लक्ष्य

लक्ष्य अब ऐसा है बनाया ,
लड़ेंगे,मरेंगे हिम्मत अब ना हारेंगे ,
लक्ष्य अब ऐसा है बनाया  ,

मुश्किलों के उस सफर पर ,
काँटों से भरी डगर पर ,
जिंदगी से लड़-झगड कर ,
दूर मंजिल की तरफ हम बढ़ चलेंगे ,
लक्ष्य अब ऐसा है बनाया,



आग फिर बरसाए जीवन ,
राह ना दिखलाये जीवन ,
जाल गर फैलाये जीवन ,
कर शपथ हम बढ़ चलेंगे ,
लक्ष्य अब ऐसा है बनाया ... 

3 comments:

  1. awesome.....very well done!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  2. कर शपथ हम बढ़ चलेंगे ,
    लक्ष्य अब ऐसा है बनाया ...
    सार्थक सोच और सार्थक रचना

    ReplyDelete
  3. सशक्त रचना...

    ReplyDelete

कलम मरती है तो बहुत कुछ मर जाता है

बांध दिए जाने और ख़त्म हो जाने की बीच से जाने वाली संकरी गलियों में वो जूझता रहा शब्दों के तहखाने से बहुत दूर निकल चुका वापसी में अपन...