Sunday, April 29, 2012

क्या कोई नहीं .....

उड़ना है पर 'पर ' नहीं ,

देखने है सपने पर,
आँखों में नींद नहीं ,

दौड़ कर पानी है रफ़्तार पर ,
पैरों में दम नहीं ,

सोचना है अपने बारे में पर ,
मस्तिष्क एकाग्र नहीं ,

करना है चिंतन पर ,
यहाँ शांति है नहीं ,

बोलना है सच पर ,
मुख में स्वर नहीं ,

करनी है कुछ बात पर ,
आप साथ है नहीं ,

उड़ना है पर'पर'नहीं |   

3 comments:

  1. उड़ान के लिए पर की क्या जरूरत ...
    उड़ो इतना कि परिंदे भी मात खा जाएँ ..
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. मन में आत्मविश्वास लाना होगा .. ये सब अपने आप आ जाएगा ...

    ReplyDelete

कलम मरती है तो बहुत कुछ मर जाता है

बांध दिए जाने और ख़त्म हो जाने की बीच से जाने वाली संकरी गलियों में वो जूझता रहा शब्दों के तहखाने से बहुत दूर निकल चुका वापसी में अपन...